भारत रत्न पुरस्कार: विजेता सूची : Bharat Ratna Award: Winner list 1954-2024

 भारत रत्न पुरस्कार: विजेता सूची

Bharat Ratna


भारत का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न सम्मान है। अपनी स्थापना के समय से लेकर 2011 तक यह पुरस्कार सिर्फ़ चार क्षेत्रों में दिया जाता था, जो कि साहित्य, विज्ञान, कला और लोक सेवा थे। लेकिन वर्ष 2011 में इसके क्षेत्र का विस्तार किया गया, जिसके बाद सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न दिया गया। 2024 में पहली बार एक साथ पांच व्यक्तियों को भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित करने की घोषणा की गई है, ये हैं- कर्पूरी ठाकुर, एम.एस. (मनकोम्बु संबाशिवन) स्वामीनाथन, पी.वी. (पामुलपर्थी वेंकट) नरसिम्हा राव, लाल कृष्ण आडवाणी और चौधरी चरण सिंह है। भारत रत्न पुरस्कार एक बार में अधिकतम कितने लोगों को दिया जा सकता है, इसके बारे में कुछ दिशा निर्देश हैं। जिसके अनुसार एक बार में अधिकतम तीन व्यक्तियों को भारत रत्न दिया जा सकता है। परंतु इस नियम को 1999 में पहली बार तोड़ा गया था, जब चार व्यक्तियों जयप्रकाश नारायण, अमर्त्य सेन, गोपीनाथ बोरदोलोई और रविशंकर को भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।


भारत रत्न पुरस्कार का डिजाइन-

प्रारंभ में भारत रत्न पुरस्कार का डिजाइन 35 मिलीमीटर गोलाकार सोने का मेडल था, जिसमें सूर्य की आकृति बनी थी और ऊपर देवनागरी लिपि से हिंदी में भारत रत्न लिखा हुआ था और नीचे फूलों का हार बना था। वर्तमान भारत रत्न पुरस्कार के प्रतीक चिन्ह की संकल्पना नंदलाल बोस द्वारा की गई थी। यह तांबे के बने पीपल के पत्ते के आकार का एक प्रतीक चिन्ह होता है। इसमें बीचो-बीच चाँदी से सूर्य की आकृति बनी होती है, जिसके नीचे भारत रत्न लिखा होता है। यह सफेद रंग के फीते में पहनाया जाता है। भारत रत्न पुरस्कार पश्चिम बंगाल के अलीपुर नामक स्थान पर बनाया जाता है।


पात्रता की शर्तें-

भारत रत्न पुरस्कार किसी भी जाति, धर्म, लिंग यहां तक कि राष्ट्रीयता की परवाह किए बिना ऐसे व्यक्तियों को प्रदान किया जाता है, जिन्होंने अपने क्षेत्र में असाधारण कार्य किए हों। इसमें साहित्य, कला, विज्ञान, लोक सेवा, शांति और मानव कल्याण के क्षेत्र में अभूतपूर्व और उल्लेखनीय कार्य करने के लिए सर्वश्रेष्ठ व्यक्तियों को चुना जाता है। 


पुरस्कार की प्रक्रिया-

भारत रत्न पुरस्कार के लिए नामांकन से लेकर अंतिम चयन तक विभिन्न स्तरों पर कुछ विशेष प्रक्रियाओं का पालन करना पड़ता है। सबसे पहले केंद्र अथवा राज्य सरकार के अंतर्गत सांसदों, विधायकों या अन्य प्रतिष्ठित व्यक्तियों द्वारा नामांकन सुझाए जाते हैं। तत्पश्चात प्रधानमंत्री द्वारा इसे सदन में रखा जाता है और इस पर विचार विमर्श किया जाता है। कैबिनेट की स्वीकृति मिलने के बाद ही प्रस्ताव को राष्ट्रपति के पास भेजा जाता है। नाम को तय करने और पुरस्कार प्रदान करने का अंतिम अधिकार राष्ट्रपति के पास ही होता है। आमतौर पर भारत रत्न पुरस्कार प्राप्त करने वाले व्यक्तियों के नाम की घोषणा गणतंत्र दिवस जैसे विशेष अवसर पर की जाती है, परंतु इसे किसी अन्य अवसर पर भी किया जा सकता है। इसके पश्चात नियत तिथि (गणतंत्र दिवस) पर राष्ट्रपति भवन में एक विशेष समारोह का आयोजन कर उपाधि प्राप्त करता व्यक्तियों या उनके प्रतिनिधियों को पदक और प्रमाण पत्र प्रदान किए जाते हैं। भारत रत्न पुरस्कार में किसी भी तरह की मौद्रिक राशि का कोई प्रावधान नहीं है।


भारत रत्न का इतिहास-

‌भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की पहल पर तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ राजेंद्र प्रसाद द्वारा भारत रत्न पुरस्कार की स्थापना 2 जनवरी 1954 को की गई थी। सबसे पहली बार भारत रत्न पुरस्कार स्वतंत्र भारत के पहले गवर्नर जनरल चक्रवर्ती राजगोपालाचारी डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन और डॉक्टर चंद्रशेखर वेंकट रमन को 1954 में दिया गया था। 1955 में इसमें मरणोपरांत पुरस्कार देने का प्रावधान भी किया गया। पहली बार मरणोपरांत भारत रत्न पुरस्कार लाल बहादुर शास्त्री को 1965 में प्रदान किया गया था। भारत रत्न प्राप्त करने वाली प्रथम महिला इंदिरा गांधी हैं, जिन्हें 1971 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था। अब तक कुल पांच महिलाओं को भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है, इनके नाम इंदिरा गांधी, एस सुब्बुलक्ष्मी, अरुणा आसफ अली, लता मंगेशकर और मदर टेरेसा हैं।


भारत रत्न पुरस्कार से जुड़े प्रमुख तथ्य-

सचिन तेंदुलकर पहले ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें 2014 में भारत रत्न दिया गया ये सबसे कम उम्र (सिर्फ़ 40 वर्ष की उम्र) के व्यक्ति हैं जिन्हें यह पुरस्कार मिला। भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित होने वाले पहले विदेशी व्यक्ति सीमांत गांधी या फ्रंटियर गांधी के नाम से मशहूर खान अब्दुल गफ़्फ़ार खान हैं, जिन्हें 1987 में भारत रत्न पुरस्कार प्रदान किया गया। ये पाकिस्तान के नागरिक थे। इसके अलावा 1990 में दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति नेल्सन मंडेला को भी भारत रत्न पुरस्कार प्रदान किया गया था। इस प्रकार अब तक कुल दो विदेशी व्यक्तियों को भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उद्योग जगत से भारत रत्न पाने वाले पहले और अब तक के एकमात्र व्यक्ति जहांगीर रतनजी दादाभाई टाटा यानी जेआरडी टाटा हैं, उन्हें 1992 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया था।


भारत रत्न पुरस्कार विजेताओं की लिस्ट-

1954 से लेकर अब तक कुल 53 व्यक्तियों को भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है जिनका संक्षिप्त परिचय निम्नलिखित है..


1954: चक्रवर्ती राजगोपालाचारी (पेशे से वकील और स्वतंत्र भारत के पहले गवर्नर जनरल), डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन (भारत के पहले उपराष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति) डॉक्टर सीवी रमन (वैज्ञानिक)


1955: भगवान दास (समाजसेवी), एम विश्वेश्वरैया (इंजीनियर) जवाहरलाल नेहरू (प्रथम प्रधानमंत्री)


1957: गोविंद बल्लभ पंत (उत्तर प्रदेश के पहले मुख्यमंत्री)


1958: धोंडो केशव कर्वे (समाज सुधारक)


1961: बिधान चंद्र रॉय (आधुनिक पश्चिम बंगाल का निर्माता, पेशे से डॉक्टर) पुरुषोत्तम दास टंडन (राजनीतिज्ञ)


1962: डॉ. राजेंद्र प्रसाद (भारत के पहले राष्ट्रपति)


1963: ज़ाकिर हुसैन (भारत के तीसरे राष्ट्रपति), पांडुरंग वामन काणे (संस्कृत विद्वान)


1966: लाल बहादुर शास्त्री (भारत के दूसरे प्रधानमंत्री)


1971: इंदिरा गांधी (भारत की पहली और अब तक की एकमात्र महिला प्रधानमंत्री)


1975: वीवी गिरी (भारत के चौथे राष्ट्रपति)


1976: के कामराज (राजनीतिज्ञ)


1980: मदर टेरेसा (समाजसेवी)


1983: विनोबा भावे (समाजसेवी)


1987: खान अब्दुल गफ़्फ़ार खान (पाकिस्तान के समाजसेवी और राजनीतिज्ञ)


1988: एमजी रामचंद्रन (फ़िल्म अभिनेता, निर्माता और राजनेता)


1990: डॉ. भीमराव अंबेडकर (समाज सुधारक, क़ानूनविद), नेल्सन मंडेला (दक्षिण अफ्रीका के क्रांतिकारी नेता)


1991: राजीव गांधी (भूतपूर्व प्रधानमंत्री), वल्लभभाई पटेल (उप प्रधानमंत्री), मोरारजी देसाई (भूतपूर्व प्रधानमंत्री)


1992: अबुल क़लाम आज़ाद (स्वतंत्रता सेनानी), जेआरडी टाटा (उद्योगपति), सत्यजीत रे (फ़िल्म निर्माता-निर्देशक)


1997: अरुणा आसफ़ अली (स्वतंत्रता सेनानी), गुलजारी लाल नंदा (राजनेता), एपीजे अब्दुल कलाम (वैज्ञानिक, भूतपूर्व राष्ट्रपति)


1998: एमएस सुब्बुलक्ष्मी (गायिका, संगीतकार), चिदंबरम सुब्रमण्यम (स्वतंत्रता सेनानी) 


1999: जयप्रकाश नारायण (राजनेता), अमर्त्य सेन (अर्थशास्त्री), गोपीनाथ बारदोलोई (असम के पहले मुख्यमंत्री), पं. रविशंकर (संगीतकार)


2001: लता मंगेशकर (गायिका), बिस्मिल्लाह खान (शहनाई वादक)


2009: भीमसेन जोशी (गायक)


2014: सीएनआर राव (वैज्ञानिक), सचिन तेंदुलकर (क्रिकेटर), 


2015: मदनमोहन मालवीय (राजनेता), अटल बिहारी बाजपेई (भूतपूर्व प्रधानमंत्री)


2019: प्रणव मुखर्जी (भूतपूर्व राष्ट्रपति), नानाजी देशमुख (सामाजिक कार्यकर्ता), भूपेन हजारीका (गीतकार, संगीतकार, गायक)


2024: जननायक कर्पूरी ठाकुर (बिहार के भूतपूर्व मुख्यमंत्री), एम एस स्वामीनाथन (भारत में हरित क्रांति के जनक, कृषि वैज्ञानिक), पीवी नरसिम्हा राव (भूतपूर्व प्रधानमंत्री), लालकृष्ण आडवाणी (

राजनेता), चौधरी चरण सिंह (भूतपूर्व प्रधानमंत्री)


© प्रीति खरवार 

Leave a Comment