“मौन निमंत्रण” कविता की मूल संवेदना : Maun Nimantran Kavita ki Mool Samvedna

  “मौन निमंत्रण” कविता की मूल संवेदना “मौन निमंत्रण” कविता छायावाद के प्रमुख कवि सुमित्रानंदन पंत द्वारा रचित रहस्यवादी विशेषताएं …

Read more

‘एक तारा’ कविता का भाव सौंदर्य/मूल संवेदना : Ek tara kavita ka bhav saundarya/Mool samvedna

‘एक तारा’ कविता का भाव सौंदर्य/मूल संवेदना ‘एक तारा’ कविता छायावाद के अत्यंत प्रतिष्ठित एवं आधार स्तंभों में से एक …

Read more

गिरिजा कुमार माथुर की कविता ‘मिट्टी के सितारे’ की मूल संवेदना

 गिरिजा कुमार माथुर की कविता ‘मिट्टी के सितारे’ की मूल संवेदना गिरिजा कुमार माथुर नई कविता के सुप्रसिद्ध कवि हैं। …

Read more

गिरिजा कुमार माथुर की कविता ” पंद्रह अगस्त (15 अगस्त 1947)” की मूल संवेदना/ मूल भाव

   गिरिजा कुमार माथुर की कविता “पंद्रह अगस्त (15 अगस्त 1947)” की मूल संवेदना/ मूल भाव कविता के प्रमुख कवि …

Read more

मैथिलीशरण गुप्त रचित कैकेयी परिताप की मूल संवेदना

मैथिलीशरण गुप्त रचित कैकेयी परिताप की मूल संवेदना “कैकेयी परिताप” अपने आप में कोई स्वतंत्र रचना न होकर मैथिलीशरण गुप्त …

Read more

“अदृश्य व्यक्ति की आत्महत्या” एकांकी का सारांश/ मूल संवेदना : Adrishya vyakti ki atmhatya ka saransh/mool samvedna

  प्रश्न- “अदृश्य व्यक्ति की आत्महत्या” एकांकी का उद्देश्य स्पष्ट करें।   उत्तर-  विपिन कुमार अग्रवाल नाटक और एकांकी साहित्य की …

Read more

सुमित्रानंदन पंत की कविता नौका विहार की मूल संवेदना : Sumitranandan Pant ke kavita Nauka vihar ki mool samvedna

 प्रश्न- नौका-विहार कविता के आधार पर पंत जी के प्रकृति सम्बंधी विचारों का वर्णन करें। अथवानौका-विहार कविता का भाव सौन्दर्य स्पष्ट …

Read more

धर्मवीर भारती की कविता ‘टूटा पहिया’ की मूल संवेदना : Dharmveer Bharti ki kavita Toota Pahiya ki mool samvedna

धर्मवीर भारती की कविता ‘टूटा पहिया’  प्रश्न: धर्मवीर भारती की कविता “टूटा पहिया” की मूल संवेदना पर प्रकाश डालें।  उत्तर: …

Read more

कालपुरुष और अजन्ता की नर्तकी एकांकी की मूल संवेदना : Kalpurush aur ajanta ki nartaki ekanki ki mool samvedna

कालपुरुष और अजन्ता की नर्तकी  प्रश्न-1. “काल पुरुष और अजन्ता की नर्तकी” एकांकी का प्रतिपाद्य स्पष्ट करें।  उत्तर- “काल पुरुष …

Read more